Welcome to KarmYog Mandir

सर्वधर्मान परितज्य, कर्मयोग शरणं गच्छ

Download First January Karmyog Divas PPT

Upcoming Events

What is Yoga?

Yoga originated in ancient India and is defined in the Sanskrit language to mean "union". Yoga is a union of the mind, body and spirit and can be more accurately described by the Sanskrit word asana, which refers to the practice of physical postures or poses. The original mission of Yoga was to cleanse and purify the body to receive the divine power of God. Today, many practice Yoga to promote health, fitness and mental stability. Five Points Yoga offers classes to harmonize and balance a students mind/body awareness by teaching the movement of the body with the breath in various poses. Along with our regular class schedule we offer workshops and special events ; everything from simple breathing techniques to introductory yoga philosophy, meditation practices and deep relaxation exercises.

Audios
Aakashvani Sir's Interview, Prayer, Karmyog Lecture in Audio section.
Articles
Best Article Collection Related to Yoga, Life, Education, Honesty etc..
Mudra
Mudra Collection.
Papers
Exam Paper Library.
Results
All Exam Result Collection.
Schedules
All Program Schedule Collection.

कर्मयोग के ज्ञान से पाए अनंत शांति व आनंद तथा जीवन में हर पल उत्साह और उमंग सीखे कर्मयोग के – 4 नियम

नियम 1) फल इच्छानुसार नहीं बल्कि कर्म की गुणवत्ता या Quality अनुसार आता है |

नियम 2) चूंकि फ़ल गुणवत्ता अनुसार है इस लिए पूर्ण कुशलता से अपनी 5 शक्तियों का उपयोग करते हुए कर्म करे
5 शक्तियां कर्म करने के लिए - 1) शारीरिक 2) मानसिक 3) बौद्धिक 4) सामाजिक 5) आर्थिक

नियम 3) जीवन वर्तमान में है, सिर्फ वर्तमान का अनुभव ही जीवन है |
जब हम वर्तमान में पूर्ण गुणवत्ता के साथ कर्म करते है तो वर्तमान के बीतने पर हमे PAST (भूतकाल) का चिंतन नहीं होता |
इसी तरह जब हम वर्तमान में पूर्ण गुणवत्ता के साथ कर्म करते है तो हमे FUTURE (भविष्य) की चिंता नहीं रहती क्यूकि कर्मयोग के नियम अनुसार फल कर्म के अनुसार है |

नियम 4) वर्तमान में जो भी फल आते है वो पीछे किये हुए कर्मो के फल है या तो इस जन्म के या पिछले जन्म के |